Sthaniya Suryodaya | कुंडली में स्थानीय सूर्योदय बनाना | Kundali Me Sthaniya Suryodaya Kaise Banaye | स्थानीय सूर्योदय |

कुंडली में स्थानीय  सूर्योदय बनाना |


1. नियम
1.यदि क्रांति उत्तरा हो और अक्षांश काशी के अक्षांश(25/18) से अधिक हो तो चरांतर धनात्मक होगा |
2.यदि क्रांति दक्षिणा हो और अक्षांश काशी के अक्षांश से कम हो तो चरांतर धनात्मक होगा |
3.यदि क्रांति उत्तरा हो और अक्षांश काशी के अक्षांश से कम हो तो चरांतर ऋणात्मक होगा |
4.यदि क्रांति दक्षिणा हो और अक्षांश काशी के अक्षांश से अधिक हो तो चरांतर ऋणात्मक होगा |
2. नियम
1.यदि चरांतर धन (+) हो तो चरांतर को दिनमान में जोड़ देंगे |
2.यदि चरांतर ऋण(-) हो तो चरांतर को दिनमान में से घटा देंगे |
Kundali Me Sthaniya Suryodaya Kaise Banaye


स्थानीय  सूर्योदय

उदाहरण 1-
दिनांक-              21/09/2018
जौनपुर अक्षांश     25/46
उत्तरा क्रांति          01/11
चरांतर  (धन+)    00/04
(यहाँ चरांतर धनात्मक होगा नियम 1 के 1 के अनुसार )

नियमानुसार चरांतर को द्विगुणित किया-
    मि.  से.
    00/04
00/04
+00/08

(यहाँ द्विगुणित चरांतर को दिनमान में जोड़ देंगे नियम 2 के 1 के अनुसार )

घं./मि. /से.
30/09/00         दिनमान
 + 00/08         द्विगुणित चरांतर
30/09/08


5)30/09/08(6
   30
     0 x 60=0+9=9

5)9(1
    5 
   4x60+08=248

5)248(49
    20
     48
     45
       3

तीनों भागों का भागफल यही स्थानीय सूर्यास्त हो गया |
06/01/49

 12/00/00
-06/01/49 तीनों भागों का भागफल

Kundali Me Sthaniya Suryodaya Kaise Banaye


स्थानीय  सूर्योदय

उदाहरण 2-

दिनांक-              20/12/2018
राँची अक्षांश-          23/34
दक्षिणा क्रांति-        23/26
चरांतर (ऋण -)     11/59
(यहाँ चरांतर धनात्मक होगा नियम 1 के 2 के अनुसार )

नियमानुसार चरांतर को द्विगुणित किया-
     मि. /से.
     11/59
     X   02
    23/58

(यहाँ द्विगुणित चरांतर को दिनमान में जोड़ देंगे नियम 2 के 1 के अनुसार )

    घं./मि. /से.
   26/04/00     दिनमान
   +   23/58       द्विगुणित चरांतर
26/27/58

5) 26/27/58(5
    25
     1x60+27=87


5)87(17
    5
    37
    35
     2x60+58=78

5)178(35
   15
    28
    25
      3

तीनों भागों का भागफल यही स्थानीय सूर्यास्त हो गया |
05/17/35

   12/00/00  नियमानुसार
 -05/17/35
  06/42/25   स्थानीय  सूर्योदय 
Kundali Me Sthaniya Suryodaya Kaise Banaye


उदाहरण 3-

दिनांक-                 21/09/2018
राँची अक्षांश-         23/34
उत्तरा क्रांति            01/11
चरांतर (ऋण -)     00/29
(यहाँ चरांतर ऋणात्मक होगा नियम 1 के 3 के अनुसार )

नियमानुसार चरांतर को द्विगुणित किया-
     मि. /से.
     00/29
     X   02
 -  00/58

(यहाँ द्विगुणित चरांतर को दिनमान में से घटा देंगे नियम 2 के 2 के अनुसार )

घं./मि. /से.
30/09/00         दिनमान
 -   00/58       द्विगुणित चरांतर
30/08/02

5) 30/08/02(6
    30
     0x60+08=8


5)8(1
    5
    3x60+2=182

5)182(36
   15
    32
    30
      2

तीनों भागों का भागफल यही स्थानीय सूर्यास्त हो गया |
06/01/36

   12/00/00  नियमानुसार
 -06/01/36

  05/58/24   स्थानीय  सूर्योदय 
यदि आप कुंडली बनाना चाहते है तो इन्हें अवश्य देखे-




उदाहरण 4-
दिनांक-              20/12/2018
जौनपुर अक्षांश     25/46
दक्षिणा क्रांति-        23/26
चरांतर (ऋण -)     01/37
(यहाँ चरांतर ऋणात्मक होगा नियम 1 के 4 के अनुसार )

नियमानुसार चरांतर को द्विगुणित किया-
    मि.  से.
 -  01/37
 - 01/37
- 03/14

(यहाँ द्विगुणित चरांतर को दिनमान में से घटा देंगे नियम 2 के 2 के अनुसार )

घं./मि. /से.
26/04/00         दिनमान
 -   03/14         द्विगुणित चरांतर
26/00/46


5)26/00/46(5
   25
     1 x 60=60+0=60

5)60(12
    5 
   10
   10
     0x60+46=46

5)46(9
    45
     1

तीनों भागों का भागफल यही स्थानीय सूर्यास्त हो गया |
05/12/09

  12/00/00
-05/12/09 तीनों भागों का भागफल

 06/47/51   स्थानीय  सूर्योदय

चरांतर सारणी

char sarani suryodaya suddhi
चर सारणी उपर तस्वीर में दृश्य है |





4 comments:

  1. श्रीमान जी आप टेवा में नक्षत्र करण योग आदि के घटी पल को लिखने का सूत्र बताए। जन्म समय के आधार पर घटी पल कैसे निकलते है उनका सूत्र सहित वर्णन करें
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  2. श्रीमान जी आप विवाह मुहूर्त निकालने के बारे में जानकारी दे। सभी प्रकार के गुण दोष मिलान सहित
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  3. Kisi sthan ki uttara aur dakshina kranti kaise gyat kki jaati hai, kripaya spashta kare

    ReplyDelete
  4. श्रीमान नवमांश कुंडली बनाने की विधि का पूर्ण नियम की जानकारी दें।

    ReplyDelete